Kahin Kuch Kho Gaya Hai.

Image Source- YourQuote

Kahin kuch kho gaya hai shayad,
Daudte hue kab nange pero me joote aa gaye,
Kab khulli jebo par taale aa gaye,
Kab poochna chhod kar, bataana shuruu ho gaya,
Iss badlaav me shayad kuch ghum sa ho gaya.

Shayad bachpana hi khoya hai,
Yeh masoom ab kuch bada hua hai,
Hasna chhod kar, muskurana shuru hua hai,
Rona bandh aur dukhi hona maamuli hua hai,
Itni baagdaudh me shayad mera bachpana hi kahin laapata hua hai.
-Gaurvi Sharma

कहीं कुछ खो गया है शायद,
दौड़ते हुए कब नंगे पैरों में जूतें आ गए,
कब खुली जेबो पर ताले आ गए,
कब पूछना छोड़, बताना आरंभ कर दिया,
इस बदलाव में शायद कुछ घुम सा हो गया।

शायद बचपना ही खोया है,
यह मासूम अब कुछ बड़ा हुआ है,
हसना छोड़ कर, मुस्कुराना शुरू हुआ है,
रोना बंद और दुखी होना मामूली हुआ है,
इतनी भाग-दौड़ में शायद मेरा बचपना ही कहीं लापता हुआ है।

Thank you for reading. Have a great day!

You can catch me up on-

Instagram- Instagram| Gaurvi Sharma

Instagram|MarkMyLetters

Facebook- Gaurvi Sharma

See you there!

12 thoughts on “Kahin Kuch Kho Gaya Hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *