Uncategorized

Umeed

Umeed ki zara si chingari

Andheri soch me ujaala kar deti hai,

Sthir labon par muskan paida kar deti hai,

Namm aankhon ko narmata se ponch deti hai.

Yeh mera sapna, Meri umeed hai.

Jab umeed me hi itna bal hai;

Toh iski hakikatat kitni takatwar hogi!

उम्मीद की ज़रा सी चिंगारी

अंधेरी सोच में उजाला कर देती है,

स्थिर लबों पर मुस्कान पैदा कर देती है,

नम आंखों को नर्मता से पोंछ देती है।

यह मेरा सपना, मेरी उम्मीद है,

जब उम्मीद मे इतना बल है,

तो इसकी हकीकत कितनी ताकतवर होगी!

0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Skip to toolbar